अगर आप भी बाथरूम जाते समय मोबाइल साथ ले जाते है तो हो जाइये सावधान ,,,,,,,,

बाथरूम में फोन लेकर जाना
अक्सर लोगों की आदत होती है बाथरूम में फोन लेकर जाने की, लेकिन आपकी यह आदत कितनी घातक हो सकती है इसका अंदाजा भी आप नहीं लगा सकते। विशेषज्ञों की इसपर राय चौंकाने वाली है। आपकी यह छोटी सी आदत आपको ‘इकोलाई’ और ‘सलमोनेला (एक प्रकार की फूड पॉइजनिंग)’ जैसी घातक बीमारियां दे सकती हैं।
हेपाटाइटिस-बी

डॉक्टरों के अनुसार खाली पैर बाथरूम जाने से ‘हेपाटाइटिस-बी’ के वायरस तलवे के रास्ते शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और व्यक्ति के शरीर में पलने लगते हैं। युवावस्था में ऐसा होने पर व्यक्ति पर तत्काल इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखता।
हेपाटाइटिस-बी

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि युवा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है जो वायरस से लड़ लेती है, हालांकि ‘हेपाटाइटिस बी’ के ये वायरस इससे खत्म नहीं होते और शरीर में पलते रहते हैं। उम्र बढ़ने के साथ जैसे-जैसे शरीर कमजोर होता है, इसकी रक्षा प्रणाली भी कमजोर हो जाती है और इस वायरस से लड़ नहीं पाती।
हेपाटाइटिस बी

इसलिए उम्र बढ़ने के साथ ये अपना असर दिखाने लगते हैं। इस वक्त हेपाटाइटिस बी की बीमारी अपने भयानक रूप में उभरकर सामने आती है जो आखिकार यह व्यक्ति की मौत का कारण भी बन सकता है। क्योंकि यह अक्सर बीमारी का अंतिम चरम होता है, इसलिए अक्सर इसे ठीक कर पाना मुश्किल होता है। बाथरूम में फोन लेकर जाने से हुए नुकसानों के बारे में भी बहुत कम लोग जानते हैं।
बाथरूम में फोन लेकर जाने के नुकसान

डॉ लीजा के अनुसार, “बाथरूम में फ्लश या नल छूने के बाद आप उसी हाथ से फोन छूते हैं जो उसपर सीधे बाथरूम के बैक्टीरिया को ट्रांसफर कर देता है। आप बाद में भले ही साबुन या पानी से हाथ धुल लें, लेकिन फोन पर जो बैक्टीरिया पहले ही जा चुका है, फोन दुबारा पकड़ने के साथ ही वो आपके हाथों पर भी वापस आ जाते हैं।”
बाथरूम में फोन लेकर जाने के नुकसान

डॉ रॉन कटलर के अनुसार, “इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका यही है कि बाथरूम में फोन लेकर ना जाएं। सबसे घातक यह है कि बाथरूम के बैक्टीरिया सिर्फ छूने से ट्रांसफर नहीं होते, बल्कि एक बार फ्लश करने से उसका स्प्रे 6 फीट तक जाता है। इसके साथ इसके बैक्टीरिया आसपास की किसी भी चीज पर जा सकते हैं, यहां तक कि बाथरूम में रखे टूथब्रश तक पर भी।”
बाथरूम में रोजाना इस्तेमाल के सामान रखना

इसलिए बाथरूम में टूथब्रश खुला रखने की बजाय इसे कैप के साथ ज्यादा अच्छा है। इसके अलावा बाथरूम में रोजाना प्रयोग किए जाने वाले सामान जैसे साबुन, प्यूमिक स्टोन जैसी चीजें भी या तो ना रखें, या अगर रखें तो उसके लिए आपके बाथरूम में एक अलमारी जरूर होनी चाहिए।
बैक्टीरिया का प्रभाव

डॉ कटलर के अनुसार, “फोन पर बैक्टीरिया ट्रान्सफर होने में एक और जरूरी बात यह भी है कि एक बार इसपर ये घातक बैक्टीरिया आने के बाद ये दूसरे सामानों की अपेक्षा यहां ज्यादा समय तक रहते हैं। इसकी एक बड़ी वजह है फोन का गर्म होना, जो बैक्टीरिया को लम्बे समय तक जीवित रहने में मदद करते हैं।”

शास्त्र वचन

शायद यही वजह है कि शास्त्रानुसार हर बार बाथरूम जाने के बाद हाथ के अलावा पैरों को भी अच्छी तरह धुलना जरूरी माना गया है। इसलिए अगली बार जब भी बाथरूम जाएं, साबुन और पानी से अच्छी तरह हाथ धुलना ना भूलें और अगर स्वस्थ रहना है, तो बाथरूम में फोन ले जाने की गलती कभी ना करें।

Facebook Comments
Loading...

Leave a Comment