Loading...

प्यार एक गहरा और खुशनुमा एहसास है। जब किसी से प्यार होने लगता है तो रिश्ते की शुरवात में हम अक्सर सिर्फ सकारात्मक चीज़ें ही देखते हैं, और सातवे आसमान में महसूस करते हैं। ये एहसास इतना गहरा होता है की यदि हमें उस व्यक्ति से बदले में उतना ही प्यार न मिले तो काफी दुःख पहुँचता है।
वक़्त के साथ प्यार की ‘शुरुवात’ वाला एहसास बदलने लगता है। और अब ये एहसास पहले से गहरा, मजबूत, होने लगता है- अब आप उनसे प्यार करने लगे हैं।

जब भी ‘प्यार’ शब्द कहीं पर लिखा हुआ मिलता है, तो आँखों के सामने उसका चेहरा आ जाता है जिसे हम सबसे ज्यादा प्यार करते हैं। कहते हैं कि प्यार करना बहुत आसान है पर उसे निभाना बहुत मुश्किल है। बहुत कम लोग अपने प्यार को पूरी तरह निभा पाते हैं।

आपको बताना चाहूँगा कि प्यार के इन 5 चरणों तक पहुँचना बहुत मुश्किल है, सर्वश्रेष्ठ युगल भी सिर्फ तीसरे चरण तक पहुँच पाते हैं और यहाँ तक पहुँचने के बाद अपना रिश्ता खत्म कर लेते हैं। आइये जानते हैं प्यार के इन 5 चरणों के बारे में,

प्यार का पहला चरण: प्यार को पाने के लिए कुछ भी करना

जब हमें किसी से प्यार होता है तो हम उसके लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार हो जाते हैं। अपने प्यार को पाने के लिए हम पूरी दुनिया से लड़ने को तैयार रहते हैं। यह प्यार का पहला चरण होता है, इसमें एक प्रेमी युगल यह भूल जाता है कि वो गलत कर रहे हैं या सही कर रहे हैं।
प्यार के पहले चरण में यह सब होता है

जब किसी को प्यार होता है तो वो अपने आप पर कंट्रोल नहीं रख पाता है। हमें लगता है कि पूरी दुनिया में हमारा प्यार ही सबसे अच्छा और सुंदर है। हम उसके अलावा कुछ और समझने में असमर्थ हो जाते हैं।

CLICK NEXT …..

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

Facebook Comments
Loading...
SHARE